हम क्यों फिसल जाते है बर्फ के ऊपर| आइये जानते है इसके पीछे का कारण|

 

आपने लोगो को बर्फ के उपर फिसलते देखा होगा|कही कही तो आइस स्केट गेम भी खेले जाते है|पर अपने कभी सोचा है की आखिर कैसे हम बर्फ पर फिसल लेते है|दो सदियों से अधिक के लिए, वैज्ञानिकों को यह बताने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था कि, वास्तव में बर्फ पर फिसलन क्यों होती है और इसपर स्केट्स इतनी अच्छी तरह से क्यों आगे बढ़ सकते हैं|तो चलिए आज आपको इसी के बारे में जानकारी देते है|

 



 

विंटर ओलंपिक में आइस स्केटिंग का खेल केवल इस तथ्य पर निर्भर करता है कि बर्फ पर फिसलन होती है| बर्फ पर स्पीडस्केटर 35 मील प्रति घंटे तक पहुंच सकता है, स्केटर गोल घूम सकते हैं और 40-पाउंड कर्लिंग स्टोन ग्लाइड कर सकते हैं क्योकि बर्फ का घर्षण कम होता है|आप जानते हैं कि बर्फ ठोस पानी है|लेकिन क्या होता है जब यह ठोस हो जाता है और आकर्षक लगने लगता है|ब्रह्मांड में अधिकतर पदार्थों के लिए ठोस तरल से अधिक घना होता है| जब एक पदार्थ ठोस रूप से ठंडा हो जाता है, तो उसके अणु बहुत पास पास बंधे होते हैं| लेकिन बर्फ अलग है| जब यह 32 डिग्री फेरेनहाइट से कम हो जाती है, तो पानी के अणुओं के बीच एक विशेष हाइड्रोजन बांड एक दूसरे के पानी के अणुओं के बीच खाली स्थान को भर मजबूर करते हैं|ठोस बर्फ वास्तव में तरल पानी की तुलना में कम घनी होती है| यही कारण है कि बर्फ के टुकड़े समुद्र में तैरते हैं| बर्फ की रफ़ू फिसलन है के राज का पता लगाने के लिए वैज्ञानिकों ने इसे सुराग की तरह इस्तेमाल किया और कुछ अनुमान लगाए|

 

ये भी पढ़े-त्रिफला, एक आयुर्वेदिक उपहार |

 

हाइपोथीसिस-1

दबाव बर्फ पिघला देता है (यह ज्यादातर गलत है, लेकिन फिर भी दिलचस्प है।)19वीं शताब्दी के बाद से, “बर्फ फिसलन क्यों है” के सवाल का सबसे आम जवाब “है क्योंकि बर्फ दबाव में पिघला देता है।” यह विचार जेम्स थॉम्पसन के काम से है, जो 1850 के दशक में गणित का काम करता है| जो कि बर्फ की एक बहुत अजीब संपत्ति का वर्णन करता है: ‘उच्च दबाव में, बर्फ पानी में बदल जाता है| ठोस बर्फ पानी की तुलना में कम घना है| यदि आप बर्फ निचोड़ते हैं, तो यह कम स्थिर हो जाती है और पिघल जाती है| जैसा कि न्यूयॉर्क टाइम्स के केनेथ चांग ने समझाया है, ब्लेड पर एक 150 पाउंड वाला व्यक्ति 32 डिग्री सेल्सियस से 31.97 डिग्री फ़ारेनुइट का पिघलने बिंदु कम करेगा, जबकि फिगर स्केटिंग के लिए आइस रिंक्स आमतौर पर 24 डिग्री फ़ारेनहाइट रखा जाता है| सीधे शब्दों में कहें: स्केटर्स बर्फ पिघलाने के लिए पर्याप्त दबाव डाल सकते हैं|




 

ये भी पढ़े-छोटे से कैलकुलेटर ने बनाया, तकनीक का बादशाह|

हाइपोथीसिस-2

घर्षण बर्फ पिघला देता है|तो बर्फ पर एक पतली ब्लेड का दबाव समझा नहीं सकता कि स्केट्स फिसले क्यों| लेकिन घर्षण के बारे में क्या? सतह पर आइस स्केट्स की फिसलने की गति से बर्फ पिघलने के लिए पर्याप्त गर्मी नहीं हो सकती| यह निश्चित रूप से उत्तर का एक हिस्सा है, लेकिन यह यह नहीं समझाता है कि क्यों बर्फ इतनी असामान्य रूप से फिसलने लगती है|आइस स्केटिंग करते वक्त चालक इतने तेज होते हैं कि बर्फ को घर्षण का समय नहीं देते|

 

ये भी पढ़े-अब आप भी बन सकते है डॉक्टर ये घरेलू नुस्खे अपनाकर|

 

हाइपोथीसिस-3

बर्फ के ऊपर तरल पानी की एक बहुत ही छोटी परत है| कुछ वर्षों पहले जेम्स थॉम्पसन ने बताया कि दबाव बर्फ क्यों पिघलता है| भौतिक विज्ञानी माइकल फैराडे ने बर्फ की एक और आकर्षक संपत्ति की खोज की| इसकी सतह पर पतली, तरल परत उनका प्रयोग इतना आसान था कि आप इसे घर पर कर सकते हैं|

 




 

तीनो हाइपोथीसिस अगर एक साथ देखे तो|

तो क्या होता है जब एल्यूमीनियम या स्टील से बना बर्फ स्केट बर्फ को छू लेती है? छोटी तरल परत ही वजह है कि स्केट बर्फ पर तुरंत चलने लग सकते हैं|और जैसे ब्लेड बर्फ के माध्यम से तेज़ और तेज़ी से आगे बढ़ते हैं, उतना घर्षण उत्पन्न होता है, जो पानी को पिघला देता है| यह अधिक घर्षण का कारण बनता है, और अधिक पिघलने. यह सब स्केटिंग करने वालों को एक चैनल में पानी की एक पतली, पतली फिल्म पर हाइड्रोपालेन की तरह सरकते हैं, और यह सब एक पल में होता है|

तो ये थी जानकारी आपके लिए उम्मीद करता हूँ आपको पसंद आएगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!