Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

एक ऐसा इलाज जिसे देख कर आपकी रूह कांप जाएगी|

fire tharepy
 
Reading Time: 2 minutes

Treatment सभी को करवाना होता है| आजकल सभी लोग किसी न किसी तरह का treatment जरुर करवाते है| पर अपने कभी किसी Unique treatment के बारे में सुना है|

आज के समय में science ने बहुत ज्यादा तरक्की कर ली है और उन खतरनाक बीमारियों का इलाज भी निकाल लिया है, जो कभी जानलेवा साबित होती थीं। इसी बीच treatment करने के कई ऐसा मामले भी सामने आते हैं, जो साइंस और टेक्नोलॉजी के इस दौर में बहुत अजीबोगरीब लगते हैं, लेकिन लोग उन तरीकों को आज भी कारगर मानते हैं

fire therapy

भारत का पड़ोसी देश है चीन जो अपनी टेक्नोलॉजी के लिए पुरे world में famous है। किसी भी चीज का डुप्लीकेट बनाने में चीन सबसे आगे रहता है, लेकिन आज हम चीन की किसी technology के बारे में आपको नहीं बता रहे हैं, बल्कि हम चीन में बीमारी का इलाज करने के एक बेहद अजीबोगरीब तरीके के बारे में बता रहे हैं, जो सभी को हैरान कर रहा है। इस अजीबोगरीब तरीके में मरीज की body पर alcohol छिड़कते हैं और आग लगा देते हैं।

fire therapy

इस अजीबोगरीब इलाज के तरीके को बांझपन, बदहजमी, कैंसर, तनाव और डिप्रेशन दूर करने के लिए अपनाया जाता है। लोगों का कहना है कि ये इलाज की तरकीब बहुत ज्यादा कारगर है, इसलिए पिछले 100 सालों से अपनाई जा रही है। आग लगाकर इलाज करने की इस अजीबोगरीब तरकीब को Fire find a therapist कहते हैं। सोशल मीडिया पर भी इस अजीबोगरीब इलाज के तरीके के वीडियो वायरल होते रहते हैं।

fire therapy

इस तरकीब में बीमार इंसान की कमर पर जड़ी बूटियों से बनाकर एक लेप लगाया जाता है। लेप लगाने के बाद उसे तौलिए से ढक कर उस पर पानी और अल्कोहल छिड़कते हैं। अल्कोहल छिड़कने के बाद उस पर आग लगा दी जाती है। कहते हैं कि जड़ी बूटियों का लेप और आग की गर्मी से बीमारी में राहत मिलती है।

fire therapy

चीन में इलाज की इस तरकीब को सदियों से अपनाया जा रहा है। इसमें शरीर में ठंड और गर्मी के बीच एक तालमेल बिठाया जाता है, जिससे शरीर को ऊपर से गर्म किया जाता है ताकि अंदर की ठंडक खत्म की जा सके।

तो ये था आज का post आपके लिए उम्मीद करते है आपको पसंद आएगा| Share करना ना भूलियेगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!