एक क्लिक से करे दुनिया के सात अजूबो के दर्शन

GAJAB CHIJ
 

नमस्कार दोस्तों उम्मीद करता हु आप हमारे ब्लोग्स के पोस्टस पढ़ रहे होंगे और काफी अजब गजब चीजो के बारे में अपना ज्ञान बड़ा रहे होंगे तो इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए मै आज लाया हु दुनिया के सात अजूबो क बारे में |

लोग जानते तो है की हमारी दुनिया में सात अजूबे होते है लेकिन ये कम जानते है की वो सात अजूबे कोनसे तो आज आप भी जाने वो है कोंसे और किस देश में है |

 

दुनिया के सात अजूबे

 

1.  लिस्ट में की शुरवात करुगा मै चीन की महान दीवार Great Wall of China से . वैसे चीन हर चीज की हुबहू नक़ल करने में जाना जाता है लेकिन इस महान दिवार में उसने कोई नक़ल नहीं की| चीन की दिवार तक़रीबन 8851 किलोमीटर है | ऐसा मानते थे की चीन की दिवार चाँद से दिखाई देती है जो की गलत साबित हुई नासा ने खुद बताया है की ये पृथ्वी कक्षा के बहार लगभग 160 किलोमीटर की दुरी से बोहोत मुश्किल से दिखाई देती है |

गजब चीज

2. अब हम बात करेगे अरब देश जोर्डन के पेट्रा (Petra) की जो की जॉर्डन के म’आन प्रान्त में स्थित एक ऐतिहासिक नगरी है जो अपने पत्थर से तराशी गई इमारतों और पानी वाहन प्रणाली के लिए प्रसिद्ध है माना जाता है कि इसका निर्माण कार्य १२०० ईसापूर्व के आसपास शुरू हुआ।पेत्रा को युनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर होने का दर्जा मिला हुआ है।

गजब चीज

3. इस अजूबे की फोटो आपने अपने कंप्यूटर के डेस्कटॉप के वॉलपेपर में बोहोत लगाई होगी लेकिन पता नहीं होगा की ये सात अजूबो में से एक है | ये है रोम के इटली शहर में स्थित कोलोसियम (Colosseum) | ये रोमन साम्राज्य का सबसे विशाल एलिप्टिकल एंफ़ीथियेटर है

गजब चीज

4. लिस्ट में अब आता है माया सभ्यता दुवारा बनाये गये कोलोम्बुस से पूर्व सबसे बड़े शहर चीचेन इट्ज़ा (Chichén Itzá) की | चीचेन इट्ज़ा के खंडहर संघीय संपत्ति हैं और उस स्थल का प्रबंधन मेक्सिको के Instituto Nacional de Antropología e Historia (राष्ट्रीय मानव विज्ञान और इतिहास संस्थान, INAH) द्वारा किया जाता है। 29 मार्च 2010 तक स्मारकों के अंतर्गत आने वाली भूमि निजी-स्वामित्व वाली थी, जब उसे युक्टान राज्य द्वारा खरीद लिया गया |

गजब चीज



5. पेरू में स्थित माचू पिचु (Machu Picchu)  दिखने में बहुत ही सुन्दर है ये दक्षिण अमेरिकी देश पेरू मे स्थित एक कोलम्बस-पूर्व युग, इंका सभ्यता से संबंधित ऐतिहासिक स्थल है। यह समुद्र तल से 2,430 मीटर की ऊँचाई पर उरुबाम्बा घाटी, जिसमे से उरुबाम्बा नदी बहती है, के ऊपर एक पहाड़ पर स्थित है। यह कुज़्को से 80 किलोमीटर (50 मील) उत्तर पश्चिम में स्थित है। इसे अक्सर “इंकाओं का खोया शहर “ भी कहा जाता है। माचू पिच्चू इंका साम्राज्य के सबसे परिचित प्रतीकों में से एक है

गजब चीज

6. अब हम बात करेगे हमारे भारत में स्थित ताज महल (TAJ MAHAL) की खूबसूरती का प्रति हर  कोई इसकी संगमरमर की सुन्दरता का दीवाना है ये उत्तरप्रदेश के आगरा शहर में है | इससे बनाने में लगभग इक्कीस  साल लगे थे (1632–53) | आप लोगो ने जरुर देखा होगा इस खुबसूरत ईमारत को अगर नहीं देखा तो इस छुटियो में प्लान करे और देख क आये एक अजूबा  हमारे भारत की शान बडाता है |

गजब चीज


7. अब आखिर में हम बात करेगे ब्राजील में स्थित ईसा मसीह की बड़ी मूर्ति के बारे में क्राइस्ट द रिडीमर Christ the Redeemer ब्राज़ील के रियो डी जेनेरो में स्थापित ईसा मसीह की एक प्रतिमा है जिसे दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा आर्ट डेको स्टैच्यू माना जाता है। यह प्रतिमा अपने 9.5 मीटर (31 फीट) आधार सहित 39.6-मीटर (130 फुट) लंबी और 30-मीटर (98 फुट) चौड़ी है। इसका वजन 635 टन (700 शॉर्ट टन) है और तिजुका फोरेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है700-मीटर (2,300 फुट) जहाँ से पूरा शहर दिखाई पड़ता है। यह दुनिया में अपनी तरह की सबसे ऊँची मूर्तियों में से एक है |

गजब चीज

उम्मीद करता हु की अपने दुनिया के सारे अजूबो के बारे में जान लिया होगा और देख लिया होगा तो इस जानकारी को पाने दोस्तों के साथ शेयर करे और उनको भी जानने में मदद करे की आखिर हमारे सात अजूबे है कौन कौन से है |

JOY DUTTA
नमस्ते _/\_ to all . This is JOY DUTTA working as a IT Engg

Now i am tell you about Who am i as a person. I am a fun loving guy who love Acting, Dancing, Hangout with friends, I believe in Smart work Rather Than Hard work. I love computers because I love Computers :)

In short I am interesting guy if you want reveals more about me You should to meet me. if that not possible

Mail me :- joydutta14@gmail.com,
or Join me on Facebook:- https://www.facebook.com/joydutta.me

and also read my blogs :- www.infotechkeeda.com www.gajabchij.com



Take care :) ☺

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!