आइये जानिए रहस्मय श्री पद्मनाभा स्वामी मंदिर के बारे में

आइये जानिए रहस्मय श्री पद्मनाभा स्वामी मंदिर के बारे में
 
Reading Time: 4 minutes

 ऐसा मंदिर है जो घिरा है ऐसी चीजो से जो आम आदमी की सोच से परे है|

श्री पद्मनाभा स्वामी मंदिर रहस्मय मंदिरों में से एक है|और यह मंदिर काफी पुराना भी है |यहा कई ऐसी चीजे है जिन्हें देखकर आप यकींन नही कर पाएंगे|इस मंदिर के बारे में कई ऐसी बाते भी है जिन्हें आज कल के लोग महज एक अफ्व्हा भी कह सकते है,पर क्या पता उनमे कितनी सच्चाई है |पर यहा के लोग अभी भी  इन् बातो को पूरा महत्व देते है |

आइये जानिए रहस्मय श्री पद्मनाभा स्वामी मंदिर के बारे में

श्री पद्मनाभा स्वामी मंदिर के उद्भव के बारे में कई किंवदंतियों हैं जो की

कुछ इस प्रकार है |

1.श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित।|

2.यह मंदिर केरल और वास्तुकला की द्रविड़ शैली की एक मिश्रण है।

3.ऐसा माना जाता है कि यह दुनिया का सबसे अमीर मंदिर है।

4. यह मंदिर भारत के 108 पवित्र विष्णु मंदिरों या दिव्य देवासों में से एक है। दिव्य देवास भगवान विष्णु के सबसे पवित्र स्थान हैं, जिनका उल्लेख तमिल संतों के कार्यों में किया गया|

5.किंवदंती का कहना है कि विल्वामंगलहुम स्वामी, जिन्हें दिवाकर मुनी के नाम से भी जाना जाता था, उन्होंने भगवान विष्णु से दर्शन देने (व्यक्तिगत रूप) के लिए प्रार्थना की। भगवान एक छोटे, शरारती लड़के के भेश में आये, लड़के ने सलीग्राम (जो की नेपाल की एक नदी के किनारे से लिया गया कला  पत्थर था जो भगवान विष्णु का स्वरुप माना जाता था ) को अशुद्ध कर दिया था, जिसे साधु ने पूजा के लिए रखा था। वह इस बात पर क्रोधित हो गए और उस लड़के का पीछा किया जो दृष्टि से गायब हो गया। ऋषि लड़के को एक इलुपा पेड़ (भारतीय बटर ट्री) में छिपा देखा , तभी अचानक से पेड़ गिर गया और एक असाधारण विशाल अनंत सयाना मूर्ती (अनंत नाग पर लेटे हुए भगवान विष्णु) बन गया। उनका सिर थिरुवल्लोम में था, थिरुवनंतपुरम में नाभि और त्रिपपड़पुरम (त्रिपप्पपुर) में कमल चरण थे। ऋषि ने भगवान को तीन भागों में देखा- थिरुमुकम, तिरुवुदल और त्रिपपडम। उस स्थान पर जहां ऋषि को भगवान के दर्शन हुए वंहा राजा और कुछ ब्राह्मण परिवारों की सहायता से एक मंदिर का निर्माण हुआ । मंदिर के मुख्य पुजारी बनाया गए थे। श्री  पद्मनाभ स्वामी की मूर्ती 18 फीट है और इसे केवल तीन दरवाजों के माध्यम से देखा जा सकता है। भगवान पद्मनाभ के सिर और सीने को पहले द्वार हाथों को दुसरे द्वार  और पैरो को तीसरे द्वार से देखा जा सकता है|

6.त्रावणकोर राजाओं में उल्लेख मर्थंद वर्मा ने मंदिर का नवीनीकरण किया और इसके परिणामस्वरूप श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के वर्तमान समय की संरचना हुई।

7.1750 में, मार्थान्ंद वर्मा ने त्रावणकोर राज्य को भगवान पद्मनाभ को समर्पित किया। मार्थन्द वर्मा ने वचन दिया कि शाही परिवार प्रभु की ओर से राज्य शासन करेगा और वह और उसके वंशज पद्मनाभ दास या भगवान पद्मनाभ के दास के रूप में राज्य की सेवा करेंगे। तब से हर त्रावणकोर राजा के नाम के पहले पद्मनाभ दास लगाया जाता पहले है। राज्य को भगवान समर्पित करने को त्रिपदिदनम कहा जाता है।

8.श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर एक ऐसे स्थान पर स्थित है जिसे सात परशुराम क्षेत्रों में से एक माना जाता है। पुराणों में अर्थात स्कंद पुराण और पद्म पुराण में बताया गया है की यह मंदिर यह मंदिर पवित्र तालाब के करीब है – पद्म थीर्थम्, जिसका अर्थ है ‘कमल वसंत।’

9.मंदिर में एक ध्वजास्टाम्ब (झंडा पोस्ट) है जो लगभग 80 फीट ऊंची है, यह सोने और तांबे की चादरें से ढका है, जो प्रतीकात्मक रूप से आकाश तक पहुंचता है। कहा जाता है की यह ध्वज हवा की विपरीत दिशा में लहराता है और मंदिर के उपर से कभी कोई पक्षी नहीं उड़ता है न कभी विमान उड़ता है|

10.मंदिर में 8 कक्ष हैं जिन्हें A,B,C,D,E,F,G&H नाम दिया गया है इन्मसे सबसे रहस्यमय कक्ष B है इस चैम्बर को ट्रस्ट के सदस्यों और भारत के अन्य सीखा ज्योतिषियों द्वारा इसे अनावरण करने के लिए बेहद रहस्यमय, पवित्र और जोखिम भरा और खतरनाक माना जाता है। चूंकि चेंबर-बी के स्टील के दरवाजे पर दो बड़े कोबरा पट्टेट्स होते हैं और इस दरवाजे के रूप में नट, बोल्ट या अन्य लेटेस नहीं होते हैं।माना जाता है कि इस कक्ष को उस समय के सिद्ध पुरुष द्वारा नाग पाश मंत्र से या नाग बंधं मंत्र से बंद किया था | इस तरह के गुप्त वाल्ट का द्वार एक उच्च संप्रदाय ‘साधु’ या ‘मंत्रिकास’ द्वारा खोला जा सकता है जो ‘गारूडा मंत्र’ का जिक्र करते हुए ‘नागा बांधेम’ या ‘नग पासल’ को निकालने के ज्ञान से परिचित हैं | यदि किसी भी मानव-निर्मित तकनीक द्वारा इस कक्ष को खोलने की कोशिश की तो संभावना है की मंदिर परिसर या भारत के बाहर या दुनिया के बाहर भी किसी भी प्रकार की अपदा आ सकती है.

आइये जानिए रहस्मय श्री पद्मनाभा स्वामी मंदिर के बारे में

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

MRIDULA PANT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!