अभी भी काफी ऐसा है हमारा समाज| जो नही जानता सफर कैसा होता है इन हवाई जहाज|

 

दोस्तों सफर करना सभी को तो नही लेकिन काफी लोगो को पसंद होता है|गुमना फिरना सब बहुत अच्छा सा लगता है| लेकिन अगर वो सफर हवाई हो तो उसका मजा ही कुछ और होता है| हवाई जहाज में सफर करना सब के बस की बात नही है और हो कैसे सकती है टिकट ही इतना महंगा होता है| पर अपने खासकर  के वो लोग जिन्होंने सिर्फ हवाई जहाज दूर से ही  देखा है कभी सोचा है की क्या होता होगा हवाई जहाज में कैसे लगता होगा हवा में सफर करना| तो चलिए आज आपको हवाई जहाज के बारे में कुछ रोमांचक बाते बताते है|

airoplane

 


 

  • हवाई जहाजों (Aeroplane) को इस तरह डिजाइन किया जाता है कि इनपर आसमानी बिजली गिरने का भी असर नहीं होता|

 

  • साल में एक बार हर हवाई जहाज पर आसमानी बिजली जरूर गिरती है लेकिन 1963 के बाद से जहाजों पर बिजली गिरने से एक भी हादसा नहीं हुआ है|

 

  • हवाई जहाज में पीछे की बीचों बीच वाली सीट सबसे ज्यादा सुरक्षित होती है यानि प्लेन हादसे के दौरान केवल यही सीट सबसे ज्यादा सेफ होती है|

 

  • कुछ हवाई जहाजों में सीक्रेट बेडरूम भी होते हैं जहाँ प्लेन के कर्मचारी आराम कर सकते हैं|

 

  • कुछ लोग मानते हैं कि हर हवाई उड़ान के बाद हवाई जहाज (Air Plane) के टायर बदले जाते हैं लेकिन ऐसा नहीं है| हवाई जहाज के टायर 38 टन वजन तक सह सकते हैं और 170 मील प्रति घंटा की रफ़्तार से जमीन पर भी उतर सकते हैं| सैकड़ों उड़ान भरने के बाद अगर टायर खराब होते हैं तभी बदले जाते हैं|

 

ये भी पढ़े-मान्यता, ये जीव घर में घुसा तो समझो मौत …

 

  • हवाई जहाज के टायर बदलने के लिए भी जैक का ही इस्तेमाल किया जाता है, ठीक वैसे ही जैसे कार का टायर बदला जाता है|

 

  • रात में प्लेन लैंडिंग के दौरान प्लेन के अंदर की लाइट डिम कर दी जाती है ताकि प्लेन से उतरने के बाद यात्रियों की आखों पर जोर ना पड़े|

 

  • प्लेन में दो इंजन होते हैं लेकिन प्लेन एक इंजन पर भी आराम से चल सकता है|

 

  • प्लेन के बाथरूम में ashtrays यानि राख भी रखी होती है ताकि अगर कोई सिगरेट जलाता है तो उसे बुझाई जा सके| प्लेन में स्मोकिंग allow नहीं है|

 



 

  • प्लेन की खिड़की के शीशों में एक बहुत छोटा छेद होता है, दरअसल ये छेद प्लेन में प्रेशर को maintain करता है|

 

ये भी पढ़े-कीमत एक हवाई जहाज जितनी ऐसा है ये जानवर|

 

  • ज्यादातर लोगों को शिकायत होती है कि प्लेन में खाना बहुत गन्दा होता है लेकिन इसमें प्लेन फ़ूड की कोई गलती नहीं है| दरअसल ऊँचाई पर जाकर वातावरण बदल जाता है| वहाँ मीठी चीज़ें भी कम मीठी लगती है और नमकीन चीज़ें कड़वी जैसे लगने लगती हैं|

 

  • हर प्लेन में यात्रियों के लिए ऑक्सीजन मास्क होते हैं लेकिन कोई ये नहीं जानता कि ऑक्सीजन मास्क में केवल 15 मिनट लायक ही ऑक्सीजन होती है|

 

  • आसमान में प्लेन के पीछे सफ़ेद धुआँ सा दिखाई देता है वो दरअसल प्लेन के इंजन द्वारा छोड़ी गयी जलवाष्प (भाप) होती है|

 

  • राइट ब्रदर्स ने 1903 में पहला हवाई जहाज बनाया था जो 120 फिट की ऊँचाई तक ही उड़ पाया था|

 

  • प्लेन का सबसे खतरनाक एक्सीडेंट 1977 में हुआ था| जब दो फुल भरे प्लेन जिनमें 600 यात्री सवार थे, जो आमने सामने रनवे पर एक दूसरे से टकरा गये थे और 500 लोगों की मौत हो गयी|

 

ये भी पढ़े-ऐसे गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड जिससे देख कर आप दांतों तले दबा लेंगे उंगलिया|

 

  • पर्यावरण में जितनी कार्बन डाई ऑक्साइड बढ़ती जायेगी हवाई जहाजों की समस्या बढ़ती जायेगी|

 

  • इंग्लिश प्लेन की इंटरनेशनल भाषा है| प्लेन में काम करने वाले कर्मचारियों और अन्य सभी लोगों को इंग्लिश आना बेहद जरुरी है|

 

  • कुछ प्रमुख एयरलाइंस में पायलट और सह – पायलटों को एक जैसा खाना खाने की अनुमति नहीं होती क्यूंकि अगर एक की तबियत खराब हुई तो दूसरा प्लेन उड़ा सके|

 

  • दुनिया का सबसे बड़ा यात्री प्लेन Airbus A380 है जिसमें चार इंजन लगे हैं|

 



 

  • रिसर्च के अनुसार 80% एक्सीडेंट जहाज के उड़ान भरने के पहले 3 सेकेण्ड में और प्लेन लैंडिंग के अंतिम आठ मिनटों में होते हैं|

 

ये भी पढ़े-ऐसी परिस्थितिया जिनमे आप ले सकते है कानून अपने हाथ में |

 

  • पायलटों की दृष्टि यानि विजन 20/20 होनी आवश्यक है|

 

  • अगर हवाईजहाज में प्रेशर बढ़ जाये और उड़ान के दौरान ही प्लेन के दरवाजे खुल जायें तो सारा सामान और लोग बाहर की तरफ गिरने लगेंगे लेकिन विमान को इस तरह डिजाइन किया गया है कि इसमें प्रेशर बढ़ना और उड़ान के दौरान दरवाजों का खुलना असंभव है|

 

  • हर साल प्लेन क्रेश से ज्यादा तो लोग प्लेन से होने वाले जहरीले प्रदूषण की वजह से मरते हैं|

 

तो ये था आज का पोस्ट हवाई जहाज के बारे में उम्मीद करता हूँ आपको पसंद आयेगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!