अल्मोड़ा अविस्मरणीय प्राकृतिक सुंदरता का केंद्र

 

उत्तराखंड राज्य में हिमालय के कुमाऊ पहाड़ी इलाके में स्थित, अल्मोड़ा अपनी अविस्मरणीय प्राकृतिक सुंदरता, हस्त शिल्प, जैव-विविधता, मनोरम व्यंजन और ऐतिहासिक रूप से समृद्ध स्मारकों के लिए प्रसिद्ध

अल्मोड़ा चंद राजवंश की समृद्ध राजधानी थी। यह क्षेत्र पहले कत्यूरी राजा बाईचल्देयो के शासनकाल में था, जिन्होंने इस क्षेत्र को गुजराती ब्राह्मण श्री चन्द तिवारी को दान दिया था। 1560 में चन्द वंश की राजधानी कल्याण चंद ने अल्मोड़ा (चंपावत से) में स्थानांतरित कर दिया था 6 किलोमीटर लम्बी घोड़े की काठी के आकार का रिज पर बैठकर, यह शहर हिमालय के हिमाच्छन्न शिखर के लुभावनी दृश्य देता है और शांतिपूर्ण अवकाश के लिए एक उत्कृष्ट स्थान है। विभिन्न तीर्थयात्री साइटें, आस-पास के क्षेत्रों में छोटे विचित्र पहाड़ी रिसॉर्ट, प्राचीन बाजार, अंतरराष्ट्रीय ऊनी बाजार और वन चोटियों (ट्रेकिंग जैसे रोमांच के लिए एकदम सही) यात्री के चेहरे पर खुशी का अतिरिक्त स्वाद जोड़ते हैं।

अल्मोड़ा में जाने वाले स्थानों

चित्तई मंदिर: कहा जाता है की कत्युरि वंश के राजा झल राय की सात रानियाँ थी. सातों रानियों मे से किसी की भी संतान नही थी. राजा इस बात से काफ़ी परेशान रहा करते थे. एक दिन वे जंगल मे शिकार करने के लिए गये हुए थे जहाँ उनकी मुलाक़ात रानी कलिंका से हुई(रानी कलिंका को देवी का एक अंश माना जाता है). राजा झल राय, रानी को देखकर मंत्रमुग्ध हो गये और उन्होने उनसे शादी कर ली.
कुछ समय बाद रानी गर्भवती हो गयीं. यह देख सातों रानियों को ईर्ष्या होने लगी. सभी रानियों ने दाई माँ के साथ मिलकर एक साजिश रची. जब रानी कलिंका ने बच्चे को जन्म दिया, तब उन्होंने बच्चे को हटा कर उसकी जगह एक सिल बट्टे का प्त्थर रख दिया. बच्चे को उन्होने एक टोकरे मे रख कर नदी मे बहा दिया.
वह बच्चा बहता हुआ मछुआरो के पास आ गया. उन्होंने उसे पाल पोसकर बड़ा किया. जब बालक आठ वर्ष का हुआ तो उसने उसने पिता से राजधानी चंपावत जाने की ज़िद की. पिता के यह पूछने पर की वह चंपावत कैसे जाएगा बालक ने कहा की आप मुझे बस एक घोड़ा दे दीजिए. पिता ने इसे मज़ाक समझकर उसे एक लकड़ी का घोड़ा लाकर दे दिया.
लेकिन बालक तो साक्षात भगवान ही थे. वो उसी घोड़े को लेकर चंपावत आ गये. वहाँ एक तालाब मे राजा की सात रानियाँ स्नान कर रही थी. बालक वहाँ अपने घोड़े को पानी पिलाने लगा. यह देख सारी रानियाँ उसपर हस्ने लगीं और बोलीं- “मूर्ख बालक लकड़ी का घोड़ा भी कभी पानी पीता है?”. बालक ने तुरंत जवाब दिया की अगर रानी कलिंका एक पत्थर को जन्म दे सकतीं हैं तो क्या लकड़ी का घोड़ा पानी नही पी सकता… यह सुन सारी रानियाँ स्तब्ध रह गयीं. शीघ्र ही यह खबर पूरे राज्य में फैल गयी… राजा की खुशियाँ लौट आईं. उन्होने सातों रानियों को दंड दिया और नन्हे गोलू को राजा घोषित कर दिया.
तब से ही कुमायूँ मे उन्हे न्याय का देवता माना जाने लगा. धीरे धीरे उनके न्याय की ख़बरे सब जगह फैलने लगी. उनके जाने के बाद भी, जब भी किसी के साथ कोई अन्याय होता तो वह एक चिट्ठी लिखके उनके मंदिर मे टाँग देता और शीघ्र ही उन्हे न्याय मिल जाता है|

 

नंदा देवी मंदिर: लोक इतिहास के अनुसार नन्दा गढ़वाल के राजाओं के साथ-साथ कुँमाऊ के कत्युरी राजवंश की ईष्टदेवी थी। ईष्टदेवी होने के कारण नन्दादेवी को राजराजेश्वरी कहकर सम्बोधित किया जाता है। नन्दादेवी को पार्वती की बहन के रूप में देखा जाता है परन्तु कहीं-कहीं नन्दादेवी को ही पार्वती का रूप माना गया है।और हर साल यंहा नंदा राज जात मेला भी मान्य जाता है|

ब्राइट एंड कॉर्नर: यह जगह, अल्मोड़ा के मुख्य शहर से 2 किमी दूर स्थित है, सूर्योदय और सूर्यास्त के सुखद दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है। एक सर्किट हाउस, स्वामी विवेकानंद स्मारक और विवेकानंद पुस्तकालय यहां भी स्थित है।

लाल बाज़ार- लाल बाजार में आपको कई दिलचस्प चीज़े देखने और करेने को मिलेंगी, पिंग की दृष्टि से लाल बाजार अल्मोड़ा का सबसे पसंदीदा स्थान है। यहां कई किस्म की स्वादिष्ट मिठाइयों के अलावा तांबे और पीतल से बनी चीजें उचित मूल्यों पर मिलती हैं। खरगोश के बाल से बने ऊनी कपड़े यहां का मुख्य आकर्षण हैं। यह कपड़े काफी मुलायम और गर्म होते हैं और खरगोश की एक ख़ास नस्ल से बनाई जाती है। धातु के बर्तन और सजावट के सामान भी मिलते हैं।

सोमेश्वर: अल्मोड़ा शहर से 35 किमी दूर स्थित, सोमेश्वर अपने प्राचीन भगवान शिव मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर चन्द वंश के राजा सोम चंद द्वारा बनाया गया था। सोमेश्वर, कौसानी एक मंदिर का घर है, जिसमें भगवान शिव के प्रमुख देवता हैं। चांद राजवंश के संस्थापक द्वारा निर्मित, शहर सुंदर सोमेश्वर घाटी के दृश्य प्रस्तुत करता है। राजा सोम चांद द्वारा स्थापित, शहर के पास एक धार्मिक आकर्षण के कारण शहर के पास एक लोकप्रिय आकर्षण बन गया है। मंदिर का नाम राजा सोम चंद और महेश्वर का नाम शामिल है। सोमेश्वर मंदिर बहुत पुराना शिव मंदिर है। सोमेश्वर, कौसानी से लगभग 12 किलोमीटर और द्वारहट से 35 किलोमीटर दूर है। इसका मुख्य प्रवेश बहुत अस्पष्ट है और एक इसे आसानी से याद करने के लिए उत्तरदायी है। इसलिए सोमेश्वर शहर के मॉल क्षेत्र को पार करने के बाद, पुराने दुकानों के बीच में एक को छोटे बोर्ड की तलाश शुरू करनी होगी। मंदिर में प्रवेश की एक पुरानी बोर्ड से, एक को मंदिर तक पहुंचने के लिए एक संकीर्ण मार्ग पर लगभग 100 मीटर चलना पड़ता है।

 

हिरण पार्क: हिरण पार्क अल्मोड़ा के प्रमुख आकर्षणों में से एक है | पार्क में कई पाइन के पेड़ हैं, जो जगह की समृद्ध प्राकृतिक सुंदरता को जोड़ते हैं। परिवेश की मनोरम सौंदर्य वास्तव में बेमिसाल है, हिरण पार्क उन प्राकृतिक लोगों के लिए सही स्थान है जो प्राकृतिक सुंदरता और शांति के बीच टहलना चाहते हैं। हिरण पार्क वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक आकर्षण का दौरा करना चाहिए क्योंकि यह दुर्लभ प्रजातियों का एक विशाल संग्रह है।

जगेश्वर: जगेश्वर बारह ज्योतिर्लिंगों में से 8 वा ज्योतिर्लिंग है | जगेश्वर मंदिर में 124 बड़े और छोटे पत्थर के मंदिरों का एक समूह है, जो 9 वीं से 13 वीं शताब्दी ईसा पूर्व है, जिजो भारत के पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षित हैं, जिनमें दंडेश्वर मंदिर, चांडी का मंदिर, जगेश्वर मंदिर, कुबेर मंदिर, मृितुंजय मंदिर, नंद देवी या नौ दुर्गा, नवा-गिरह मंदिर, एक पिरामिड मंदिर, और सूर्य मंदिर, जिनमें से सबसे पुराना मंदिर ‘मृतीयुंजय मंदिर’ और सबसे बड़ा मंदिर ‘दन्देश्वर मंदिर’ है।

 

उत्तरखंड घुमने आये तो अल्मोड़ा जरुर आये और इन जगहों पर जरुर घुमने जाये अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे

 

MRIDULA PANT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!